श्री श्री रविशंकर ने बाबा रामदेव की आँख मारने की आदत ठीक करने का किया दावा

क्या श्री श्री रामदेव बाबा से ज़्यादा आयुर्वेद के जानकार हैं, या ये प्रेम प्रसंग वाला चक्कर है? क्या बाबा रामदेव की आदत इतनी आसानी से छूटेगी?

यमुना बैंक: बाबा रामदेव की आँख मारने की आदत से हर कोई वाकिफ़ है। लोगों ने तो बाबा रामदेव से सवाल भी पूछना शुरू कर दिया है कि अगर वास्तविकता में आप ही योग गुरु हैं, और आप का दावा है कि योग से सब कुछ ठीक होता है, तो आपका आँख मारने का आदत कब ठीक हो रहा है!

हालांकि बाबा रामदेव ऐसे सवालों पर चुप्पी साध लेते हैं। लेकिन अब लगता है कि उनकी इस बीमारी का इलाज़ मिल गया है। श्री श्री रविशंकर ने दावा किया हैं कि उनके बताये गये नुस्खे से बाबा रामदेव की ये आँख मारने की बीमारी जड़ से पूरी तरह खत्म हो जायेगी।

Baba Ramdev, Sri Sri Ravi Shankar and Sunny Leone
बाबा, डबल बाबा, और ‘वो’

आपको बताते चलें कि बाबा रामदेव और श्री श्री रविशंकर दोनों के प्रोडक्ट्स बाजार में बिकते हैं। हालांकि इसमें बाबा रामदेव की पतंजलि बाज़ी मार जाती है, लेकिन फिर भी दोनों मार्केट कॉम्पिटिटर तो हैं ही। तो रविशंकर का ये दावा इस लिहाज़ से भी महत्वपूर्ण है कि इस से जनता में संदेश जाएगा कि पतंजलि से भी कारगर रविशंकर के प्रोडक्ट्स हैं, जो कि पतंजलि के संस्थापक की बचपन की भी बिमारी को ठीक करने का माद्दा रखती है। हो सकता है इसके कारण पतंजलि के प्रोडक्ट्स की बिक्री कुछ कम हो जाए, और श्री श्री रविशंकर की बिक्री कुछ बढ़ जाये।

हमारे पाठकों को ज्ञात होगा कि बाबा रामदेव और श्री श्री रविशंकर दोनों सनी लियोनी को पसंद करते हैं। तो ये भी हो सकता है कि सनी लियोनी की नज़रों में अपने स्थान को पुख़्ता बनाने के साथ-साथ ऊँचा उठने की ये श्री श्री रविशंकर की चाल हो।

हालांकि बाबा रामदेव ने इस बात पर अभी तक कोई जवाब नहीं दिया है, लेकिन देखना दिलचस्प रहेगा कि जिस आँख मारने की बिमारी पर सनी लियोनी का दिल आया था, वो बाबा रामदेव ठीक करवाते हैं कि नहीं।

लेकिन अगर बाबा ने इस बात पर चुप्पी तोड़ी, और आँख मारने की बीमारी को ठीक करवाने को लेकर श्री श्री रविशंकर से बात की, तो ये साफ़ हो जायेगा कि बाबा रामदेव सनी लियोनी से भी ज्यादा अपनी आँख की बीमारी ठीक करवाने को तवज्जो देते हैं। लेकिन अगर उन्होंने ये बीमारी ठीक करवाने से मना कर दिया, तो साफ़ हो जायेगा कि बाबा को सनी लियोनी अपनी आँख की बीमारी से ज्यादा पसंद हैं।

हालांकि एक्सपर्ट बताते हैं कि ऐसा बयान देकर श्री श्री रविशंकर ने एक गहरी राजनैतिक चाल चल दी हैं। बाबा रामदेव को अब इस गहरी खाई से निकलना है, तो कुछ अलग सोचना पड़ेगा। अगर समय रहते बाबा रामदेव ने इस पर कोई फैसला नहीं लिया तो बाबा रामदेव के पास पछताने के अलावा कोई चारा नहीं रह जायेगा।

Discussion

comments

डिस्क्लेमर: यह एक हास्य-व्यंग्य लेख है और इसके सभी पात्र, घटनाएं अादि काल्पनिक हैं। कृपया इस खबर को सच समझकर व्यर्थ मे अपनी भावनाएं अाहत न करें। अाप भी तीखी मिर्ची ज्वाईन करके अपनी रचनाएं पोस्ट कर सकते हैं
Shubham
About Shubham 232 Articles
कुछ नहीं से कुछ भी बनाने की कला।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.