UN में नवाज़ शरीफ 19 मिनट तक अंग्रेजी बोले, पाकिस्तान ने नागरिकता वापस ली

UN को संबोधित करते हुए शांतिप्रिय देश पाक के PM नवाज़ शरीफ़ ने लोगों को उस वक़्त संकट में डाल दिया जब वो भाषण इंग्लिश में बिना रुके, पढ़े जा रहे थे.

इस्लामाबाद: बीते दिनों संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए शांतिप्रिय देश पाक के प्रधानमन्त्री नवाज़ शरीफ़ ने सभा में उपस्थित लोगों को उस वक़्त संकट में डाल दिया, जब वो भाषण इंग्लिश में बिना रुके, पढ़े जा रहे थे। 19 मिनट तक नॉनस्टॉप इंग्लिश बोले जा रहे शरीफ़ ने अचानक अपना भाषण तब ख़त्म कर दिया, जब किसी ने सभा में चिल्लाया, “खाना लग गया है, भूखे लोग जाकर खा लें।” शरीफ़ की इंग्लिश सुन सभा में कानाफूसी होने लगी, 90 दिनों में इंग्लिश सिखाने वाली कोचिंगों ने अपनी शाखाएं पाकिस्तान में खोल दी है या नवाज़ शरीफ़ ने डिस्टेंस एजुकेशन से कोई सर्टिफिकेट लिया है।

Barack Obama Nawaz Sharif in UN general assembly
बराक ओबामा और नवाज़ शरीफ की बातचीत का सीक्रेट ट्रांसक्रिप्ट।

फ़ैल रही इन भ्रांतियों को पाक सेना ने आज स्पष्ट करते हुए बताया कि न तो नवाज़ शरीफ़ ने कोई सर्टिफिकेट कोर्स किया है और न ही पाकिस्तान में कोई इंग्लिश स्पीकिंग इन्स्टिट्यूट खुला है क्योंकि ये दोनों ही चीज़ें हमारे मुल्क़ का मान वैश्विक पटल पर कम करती हैं, इसलिए हमने रणनीति बनाई कि चोरी-छिपे किसी तरह नवाज़ शरीफ़ को भारत भेजकर कामचलाऊ इंग्लिश सिखा दें और इसीलिए हम अक्सर सीमा पर बमबारी करते रहते हैं कि उन्हें भारतीय सीमा में घुसा सकें पर हमारे आतंकी हर बार उन्हें सीमा से धक्का मारकर खुद ही घुस जाते है। हम दुःखी हैं, हमें लगता है उनका भारत में इंग्लिश स्पीकिंग क्लास ज्वाइन करने का सपना, सपना ही रह जाएगा। आख़िर में सेना ने बड़े आश्चर्य के साथ ये भी बताया कि उन्हें नहीं पता नवाज़ शरीफ़ ने इतनी इंग्लिश सीखी कैसे, फिर भी ISI इस बात की ख़ुफ़िया जांच करेगी, कि कहीं ये हमें अंतर्राष्ट्रीय मंच पर नीचा दिखाने के लिए दुश्मन देशों की चाल तो नहीं।

जब इस बारे में पाकिस्तान प्रधानमन्त्री नवाज़ शरीफ़ से पूछा गया तो उन्होंने “हमारे संवाददाता” से कहा, पहले हमें 2 थप्पड़ मारिए, आख़िर मुझे पता क्यों नहीं चला कि हम जो भाषण में पढ़ रहे थे, वो अंग्रेजी थी, अब मेरे मुल्क वाले मुझे अपनाएंगे कैसे? उनका तो अब मुझ पर से भरोसा ही उठ गया होगा। हाय अल्लाह, अब किस मुहं से अपने मुल्क जाऊंगा। शांति के लिए लड़ने वाले हमारे मुल्क को अब इस अंतर्द्वंद से लड़ना होगा कि हम बिना रुके अंग्रेजी भी बोलने लगे हैं।

उधर पाकिस्तान के नागरिकों में गजब का गुस्सा देखा जा रहा है, उन्होंने कहा, आख़िर बिन मुल्क को बताए प्रधानमन्त्री कैसे धोखा कर सकते हैं, हम सभी बड़े-बड़े प्रोजेक्टर के साथ प्रधानमन्त्री जी का भाषण सुनने को चौराहों-चौराहों पर एकट्ठा हुए पर हमारे साथ धोखा हुआ, बहुत देर तक हम समझ ही न पाए कि प्रधानमन्त्री जी किस भाषा में बोल रहे है, किसी तरह गूगल वोइस ट्रांसलेटर पर सर्च किया तो “दिस लैंग्वेज डजनॉट सपोर्ट इन योर कंट्री” लिखकर आया, हम वहीँ पर चुल्लू भर पानी खोज रहे थे, पर वो भी “नॉट फाउंड” बता रहा था।

इधर, हाफ़िज़ सईद ने “हमारे संवाददाता” को बताया कि हम पूरे विश्व में पाकिस्तान को खौफ़ भरना चाहते है, आप खुद देखिए हमारे चुन्नू नवाज़ शरीफ़ ने UNGA में 19 मिनट तक लगातार इंग्लिश में भाषण दिया, भाषण ख़त्म होने के बाद ही सभा ने ताली बजाई, इस बीच किसी की मज़ाल  जो बीच में जागा हो। हमारा टेरर पूरे वक़्त बना रहा। हम खुश हैं, चुन्नू ने कर दिखाया।

आख़िर में “हमारे संवाददाता” द्वारा ज़बरन नवाज़ शरीफ़ के मुहं में माइक डालने के बाद उन्होंने राज उगला और बताया कि हम इंग्लिश में भाषण नहीं देने वाले थे, पर हमारे रक्षा मंत्री ने धमकी देते हुए कहा था अग़र बिन अंग्रेजी बोले वहां से हटे तो वहीँ परमाणु बम तुम पर दाग दिया जाएगा, ऐसे में मेरी हालत मरता न तो करता क्या वाली हो रखी थी, इसीलिए बार-बार Occupation को “ओकपेशन” पढ़कर मैंने अपनी जी भरकर बेज्जती करवायी।

कुल मिलाकर जैसी खबरें आ रही हैं, लगातार 19 मिनट तक इंग्लिश में भाषण देने की वज़ह से नवाज़ शरीफ़ को पाकिस्तानियों ने अपने देश का मानने से मना कर दिया है और साथ ही ये भी चेतावनी दी है कि अग़र दोबारा से इंग्लिश बोलकर देश की नाक कटाने की सोची तो हम तुम पर, धूप में सूखने को रखे घर-घर, परमाणु बम, मारने से बिल्कुल भी न हिचकिचाएंगे। इस चेतावनी को गम्भीरता से लेते हुए नवाज़ शरीफ़ रोते हुए पाकिस्तान की हरकतों की शिक़ायत लेकर UN महासभा की ओर जाते हुए फिर दिखे हैं।

(कैमरामैन “तुम्हारे” के साथ संवाददाता “हमारे” इस्लामाबाद, मिश्रा की टीवी)

(सौरभ मिश्र द्वारा डेली खबर पर यहाँ भी प्रकाशित।)

Discussion

comments

डिस्क्लेमर: यह एक हास्य-व्यंग्य लेख है और इसके सभी पात्र, घटनाएं अादि काल्पनिक हैं। कृपया इस खबर को सच समझकर व्यर्थ मे अपनी भावनाएं अाहत न करें। अाप भी तीखी मिर्ची ज्वाईन करके अपनी रचनाएं पोस्ट कर सकते हैं
Saurabh Mishra
About Saurabh Mishra 5 Articles
सौरभ मिश्रा स्वतन्त्र टिप्पणीकार हैं।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.