रामदेव और श्री श्री समर्थक आपस में भिड़े, दंतमंजन को लेकर हुआ था विवाद

Dant Kanti Vs Sudanta: अाज तड़के बाबा रामदेव और डबल श्री समर्थक इस बात पर लड़ बैठे कि दंत क्रांति और सुदंत मे से बेहतर कौन सा है.

India road rage
झगड़ा इस तरह झड़प से शुरू हुआ, जिसने बाद में और बड़ा रूप ले लिया।

कानपुर: देश के बड़े बाबाओं ने बिज़नेस क्या शुरू कर दिया, उनके भक्तों ने एक दूसरे के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. खबर मिली है कि पतंजलि के बाद अब टीवी पर श्री श्री अायुर्वेदा के विज्ञापन ज़ोर-शोर से प्रसारित होने पर दोनों के भक्तों मे तनाव अा गया है. अाज तड़के बाबा रामदेव और डबल श्री समर्थक इस बात पर लड़ बैठे कि दंत क्रांति और सुदंत मे से बेहतर कौन सा है.

इस दौरान दोनों तरफ के कई भक्त चोटिल हुए. फिलहाल उनका इलाज सड़क के किनारे टेंट लगाए ‘हिमालयी दवाखानों’ मे चल रहा है, क्यूंकि उन्होंने अंग्रेजी चिकित्सा पद्धति से इलाज करवाने से मना कर दिया था. खबर लिखे जाने तक भक्तों की हालत काबू मे बतायी जा रही थी.

सूत्रों के अनुसार झगड़ा तब शुरू हुअा जब एक चाय की दूकान पर डबल श्री का एक भक्त चुस्कियां ले रहा था, तभी उसके बगल बैठे रामदेव बाबा समर्थक ने उसके पीले दिखने वाले दांतों का मज़ाक उड़ा दिया। बाबा समर्थक का कहना था कि ऐसा सुदंत टूथपेस्ट लगाने से हुआ है। ये सुनते ही डबल श्री समर्थक आग-बबूला हो गया और उसने बाबा समर्थक के गुटखे से रंगीन दांतों की तुलना पतंजलि च्यवनप्राश से कर दी।

तू-तू मैं-मैं सुनकर सड़क पर और लोग भी इकट्ठे हो गए और उन्होंने भी आपस में खूब हाथापाई की। मौक़ा पाकर वहां एक बाबा गुरमीत राम रहीम का समर्थक आ गया और उसने MSG ब्रांड के उत्पादों का ठेला लगा लिया। देखते ही देखते MSG के सारे सामान वहां बिक गए।

बहरहाल, इस खबर के बाद बाबाओं ने अपने भक्तों से शांति की अपील की है, और इस बात पर सहमति बनाने की कवायद चल रही है कि बाबा लोग एक जैसे प्रोडक्ट लांच न करें, जिससे उनमे किसी तरह का कम्पटीशन आये.

Discussion

comments

डिस्क्लेमर: यह एक हास्य-व्यंग्य लेख है और इसके सभी पात्र, घटनाएं अादि काल्पनिक हैं। कृपया इस खबर को सच समझकर व्यर्थ मे अपनी भावनाएं अाहत न करें। अाप भी तीखी मिर्ची ज्वाईन करके अपनी रचनाएं पोस्ट कर सकते हैं
Jabra
About Jabra 207 Articles
मेरी गाड़ी बेवकूफों और चाटुकारों से प्रेरणा लेकर चलती है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.