हिन्दू राष्ट्रवादी सोच है हमारी, आगे अब मर्ज़ी है तुम्हारी

कहाँ खो गए हैं अब वो हिन्दू राष्ट्रवादी? आपने कहीं देखा है उन्हें?

सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के स्वयंभू पहरेदार
सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के स्वयंभू पहरेदार

जब कश्मीर के लोगों की पॉटी भी थोड़ी हरे रंग की हो जाती थी, तो ये लोग उसकी फोटो फेसबुक पर डाल के बवाल काट देते थे। आरोप ये था कि केंद्र सरकार कश्मीरियों को कुछ नहीं बोलती क्योंकि मुस्लिम वोट ख़राब हो जायेंगे। धारा 370 पर इतना बोलने को तैयार थे जैसे कि सरकार बनाते ही कश्मीर को बिलकुल राष्ट्रवादी बनाके छोड़ेंगे, और मोदी के आने के बाद से वहां रोज़ मस्जिदों में जन गण मन से सुबह और वन्दे मातरम से आखिरी अजान होगा।

कर्नल राय को धोखे से मारा गया और फिर भी उनकी टीम ने उन उग्रवादियों को भी मार गिराया। आज उस उग्रवादी को कश्मीर की जनता राजकीय सम्मान दे रही है तो हमारे हिन्दू राष्ट्रवादी नेता द्धारका में भाषण दे रहे हैं और देश को बचाने की कोशिश में लगे हैं। ये अलग बात है कि उनकी बातें जुमला होती हैं। अब आप लोग बताओ कि जुमला सुनने के लिए जाते क्यों हो?

आजकल वो राष्ट्रवादी फेसबुक पेज भी मर गए हैं। कश्मीर में ये लोग जिनको गाली दी गयी थी उनके साथ जुड़ने को बेकरार हैं, और अब पुरानी बातें खत्म हो चुकी हैं। अब सीमा पर मरने वाले माँ के लाल नहीं हैं क्योंकि अब केंद्र में राष्ट्रवादी सरकार है। दस लाख के सूट पे क्यों हल्ला कर रहे हो मित्रों मैं तो बनना ही परिधान मंत्री चाहता था, लोगों और पार्टी ने प्रधान मंत्री समझ लिया तो मैं क्या करूँ?

गुलाबी क्रांति की बात भी एक जुमला ही थी भाईयों, और अब ये रिपोर्ट लेके मत आ जाना कि मीट एक्सपोर्ट 17% बढ़ गया है गुजरात में (मैंने कहीं सुना ही था) आखिर देश को तरक्की करना है। मैदान में शांतिपूर्ण प्रदर्शन अराजकता है, लेकिन रथयात्रा और सद्भावना यात्रा से लोगों और राहगीरों का जीना हराम करना राष्ट्रवादिता है।

ऐसी तमाम बाते हैं दोस्तों जो आपको बुरी लग तो सकती हैं, लेकिन चूँकि हम हिन्दू राष्ट्रवादी हैं, ये सब बाते आपको इग्नोर कर देनी चाहिए। चुनाव में मोदी जी को बहुमत दिलाइए ताकि वो इस्तीफ़ा देके मुख्यमंत्री बन सकें। और हाँ, देश हिन्दू राष्ट्र बनने की राह में है। ओबामा की फालतू बातों पर ध्यान न देना, गांधी चुनावों में ठीक हैं…वैसे तो हम गोडसे वाले हैं न!

Discussion

comments

डिस्क्लेमर: यह एक हास्य-व्यंग्य लेख है और इसके सभी पात्र, घटनाएं अादि काल्पनिक हैं। कृपया इस खबर को सच समझकर व्यर्थ मे अपनी भावनाएं अाहत न करें। अाप भी तीखी मिर्ची ज्वाईन करके अपनी रचनाएं पोस्ट कर सकते हैं
Avatar
About vinaychandrapandey 3 Articles
I am working in private sector and live in Gurgaon

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.