लीक्ड: राजनाथ जी के नाम बाबा रामदेव का दूसरा गुप्त पत्र

रामदेव जी का पद्म भूषण लौटने के पीछे का राज़ पढ़ें: बहुत ही कम लोगो को पता है की रामदेव जी ने पद्म भूषण लेने से मना करते हुए राजनाथ जी को दो पत्र लिखे। दूसरा पत्र किसी तरह हमारे रिपोर्टर इच्छाधारी नागिन के हाथ पड़ गया, जो कि राजनाथ जी के चपरासी का रूप लेकर लद्धड़पना फैला रहा था। प्रस्तुत है, वह लीक्ड पत्र:

बाबा रामदेव का पहला खुला पत्र यहाँ पढ़ें

समादरणीय महोदय,

सप् डॉग!

मैं आपका बड़ा आभारी हूँ जो आपने 2011 में दिए गए अपने वचन को पूरा किया। आज पतंजलि योगपीठ मनुष्यो के लिए भारत में सबसे बड़ी घास-फूस का व्यापार करने वाला संगठन बन गया है। पिछले महीने बैठकर जो हमने मास्टर स्ट्रोक प्लान सोचा था, उसका भी आपने कल आह्वान कर ही दिया। करते भी कैसे ना…हर हफ्ते याददाश्त बढ़ाने वाली घुट्टी- संबित पात्रा जी के हाथो आपके पास पहुंचा जो करती है। भक्तो को यह ज़रा भी नहीं लगने दिया कि आप मुझे पद्म श्री पुरस्कार देने का ऐलान करेंगे, और मैं अपने विशाल ह्रदय वाले सन्यासी होने का परिचय देते हुए मना कर दूंगा। इससे मेरी प्रसिद्धि सौ गुना बढ़ेगी, और फिर व्यापार में और भी तेज़ी आएगी। विदेशियो को घास बेचने और गौ मूत्र पिलाने का मेरा सपना पूरा होता नज़र आएगा।

बाबा रामदेव गर्वपूरक अपने उत्पाद दिखाते हुए
बाबा रामदेव गर्वपूरक अपने उत्पाद दिखाते हुए

इंडिया टीवी, इंडिया न्यूज़ और ज़ी टीवी वाले तो जैसे इस खबर पर पगला ही गए हैं। यहां तक कि एनडीटीवी वालो को जो धमकी दी थी, उसका असर भी दिख रहा है। दिन रात मेरे ही गुणगान गाए जा रहे हैं। इस हालत में तो पद्म भूषण क्या, मुझे तो ‘स्टार परिवार अवार्ड्स’ और ‘ज़ी टीवी अवार्ड्स’ और जाने क्या-क्या मिल जाएंगे।

पत्र लिखने पे दौरान संबित पात्रा के बारे में सोचते ही बाबा ने कुछ ऐसे एक्सप्रेशन दिए.
पत्र लिखने पे दौरान संबित पात्रा के बारे में सोचते ही बाबा ने कुछ ऐसे एक्सप्रेशन दिए.

वैसे अगर मुझे पता होता कि लोगों को काले धन पर गोली देने का ये इनाम मिलेगा, तो मैं तो अन्ना जैसों के साथ कभी समय बर्बाद ही नहीं करता। ख़ैर उस समय भी काफी बिक्री हुई। मंच पर धरना दे रहे थे अन्ना, केजरीवाल, बेदी जी…और नीचे लोगों को मैंने खूब चूरन,मीठी गोली इत्यादि बेची। और जो इनकम टैक्स वाली गोली थी, उसपर तो मुझे आज तक हसी आती है। थैंक्स टू संबित पात्रा- मुझे उस बकवास आइडिये को भी डिफेंड कराने में मदद के लिए। समझ अब तक नहीं आया कि मैंने इतने न्यूज़ चैनेलो पर बोला क्या? लेकिन भक्तो को यकीन हो गया की अगला फाइनेंस मिनिस्टर यही होने वाला है।

बाकी सब कुशल मंगल ही है। आजकल थोड़ा समय कम मिलता है आपके साथ बकचोदी करने का। असल में नपुसंकता हटाने की घुट्टी पर क्लीनिकल ट्रायल्स चल रहे है। जब से आसाराम बापू जी गए है, काम का ज़ोर थोड़ा बढ़ गया है, और सुबह होते होते थक भी जाता हूँ। वो तो भला हो साक्षी महाराज जी का, जो की मेरी मदद कर देते है। अपनी परफॉरमेंस पर घमंड़ में आके कुछ दिन पहले उन्होंने चार बच्चे पैदा करने वाला बयान दे दिया था। गालियां तो बहुत पड़ी थी, लेकिन हमारे विराट हिन्दू भक्तो का भी जवाब नहीं। उस दिन से पुरुषार्थ बढ़ने के तेल की बिक्री में भी चार सौ गुना वृद्धि हुई है!

आपकी कृपा से कारोबार में अब कोई कमी नहीं है। यह समझिए ‘अच्छे दिन’ आ ही गए। जब से मोदी जी की सरकार आई है, तब से हमारी मौजूदा उत्पादों के अलावा नए उत्पादों के विक्रय में तेज़ी आई है। आप विशवास नहीं करेंगे, कौन सी समस्याओ का समाधान पतंजलि योगपीठ के पास है: प्रमोशन न मिल पाने पर खाए जाने वाली च्युइंग गम, बीवी द्वारा दिया गया गिफ्ट टूटने या खोने पर अँधेरे में बैठकर खाया जाने वाला चूर्ण(मोर्टीन) और कॉलेज के छात्रों के लिए परीक्षा के बाद गलत लिखे जवाब को जादुई तरीके से सही करने वाला पेय (दारु)।

‘आइडियाज’ का यहां कोई आभाव नहीं है राजनाथ जी! एक आईडिया और है मेरे मस्तिष्क में, अभी जिससे मेरा बिज़नेस अम्बानी और अडानी जितना बड़ा और सफल हो जाएगा। आप किसी तरह टीवी और अखबारों में यह बात फैला दीजिये की देश के मुसलमानो ने आइसिस की मदद से वातावरण में एक ऐसी गैस फैला दी है जिससे देश के सारे हिन्दू (नोट: सिर्फ हिन्दू) मर जाएंगे। उसका प्रतिकारक या ‘एन्टीडोट’ सिर्फ पतंजलि विद्यापीठ ही निकाल पायी है। है ना फाड़ आईडिया? शून्य इनकम टैक्स के बाद ये मेरा दूसरा बड़ा आईडिया है। बाकी पद्म भूषन तो आप संबित पात्रा, विजय जॉली या सुधांशु त्रिवेदी को दे दीजिये, बेचारों की वो हालत देखी नहीं जाती, जो टीवी में की जाती है।
बहुत पका लिया, अब आज्ञा लेता हूँ।

P. S.: ये नंबर जरा ट्रू कॉलर  में चेक करके बताइये किसका है। गालियां भेज रहा है की तेरी वजह से मुझे भी अवार्ड वापस करना पड़ रहा है। नंबर है : 96584#####

सधन्यवाद

यो ब्रो,
स्वामी रामदेव

श्री राजनाथ सिंह
माननीय गृह मंत्री
भारत सरकार , नई दिल्ली।

Discussion

comments

डिस्क्लेमर: यह एक हास्य-व्यंग्य लेख है और इसके सभी पात्र, घटनाएं अादि काल्पनिक हैं। कृपया इस खबर को सच समझकर व्यर्थ मे अपनी भावनाएं अाहत न करें। अाप भी तीखी मिर्ची ज्वाईन करके अपनी रचनाएं पोस्ट कर सकते हैं
IcchadhariNagin
About IcchadhariNagin 5 Articles
Around you. Deceiving

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.