घर घर बिल्ली…घट घट बिल्ली!

एक गपोड़ी, बड़बोली, निगोड़ी बिल्ली पर मज़ेदार कविता

घर, घर, बिल्ली ! घट, घट, बिल्ली !
घर, घर, बिल्ली ! घट, घट, बिल्ली !

झूठी बिल्ली, खूनी बिल्ली,
हंसती बिल्ली, रोती बिल्ली,
बड़ी सयानी, एक्टर बिल्ली,
सत्ता की है, भूखी बिल्ली,

गपोड़ी, बड़बोली, निगोड़ी बिल्ली
गपोड़ी, बड़बोली, निगोड़ी बिल्ली

घर, घर, बिल्ली !! घट, घट , बिल्ली !!
बिल्ली ! …बिल्ली ! …बिल्ली ! …बिल्ली !

पल, पल, पलटी मारे बिल्ली,
सपने बहुत, दिखाती बिल्ली,
सेठ की करे गुलामी बिल्ली,
है ये बहुत गपोड़ी बिल्ली,

घर, घर, बिल्ली !! घट, घट , बिल्ली !!
बिल्ली ! …बिल्ली ! …बिल्ली ! …बिल्ली !

अपना ही गुण गाये बिल्ली,
करे न, बात बनाये बिल्ली,
पते की बात, छुपाये बिल्ली,
दिल्ली बहुत लुभाये बिल्ली,

घर, घर, बिल्ली !! घट, घट , बिल्ली !!
बिल्ली ! …बिल्ली ! …बिल्ली ! …बिल्ली !

छण-छण बाँह दिखाए बिल्ली,
सीना बहुत फुलाये बिल्ली,
दुम भी बहुत दबाये बिल्ली,
है ये बहुत निगोड़ी बिल्ली,

घर, घर, बिल्ली !!, चल, हट बिल्ली !!
बिल्ली ! …बिल्ली ! …बिल्ली ! …बिल्ली !

Discussion

comments

डिस्क्लेमर: यह एक हास्य-व्यंग्य लेख है और इसके सभी पात्र, घटनाएं अादि काल्पनिक हैं। कृपया इस खबर को सच समझकर व्यर्थ मे अपनी भावनाएं अाहत न करें। अाप भी तीखी मिर्ची ज्वाईन करके अपनी रचनाएं पोस्ट कर सकते हैं
TEJASVEE
About TEJASVEE 2 Articles
मैं एक मानववादी या उससे भी बढ़कर प्रकृतिवादी व्यक्ति हूँ, इस संसार रुपी मकड़जाल में जीना सीख रहा हूँ, छोटे से गाँव से लेकर, अन्तराष्ट्रीय स्तर के संस्थानों में अध्ययन, अध्यापन और शोध करने तक की अबतक की जीवन यात्रा में जो कुछ भी मैंने सीखा है, उन अनुभवों को अपनी सामान्य बुद्धि से तर्क की कसौटी में कस कर कागज में उकेरने का प्रयत्न करता हूँ, और कोशिश करता हूँ की लोगों तक अच्छा सन्देश पहुंचे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.