Narendra Modi Namaste
कविता

करना मुझको माफ़, मैं अच्छे दिन नहीं ला पाऊंगा!

ओ मोदी मुदित मंदबुद्धि मित्रों ओ भाषण-भुक्त भ्रष्टबुद्धि भक्तों ओ लुटियन-चारण चिंतक औ ‘मॉडल’ पर लट्टू परबुध आसक्तों नये साल पर मैं घर-घर अपनी दिनदर्शिका* भिजवाऊंगा करना मुझको माफ़ मैं अच्छे दिन नहीं ला पाऊंगा। […]

खुला पत्र

मार्क जुकरबर्ग की घरवापसी के लिए सुब्रमण्यम स्वामी का खुला पत्र

प्रिय मार्क, हे मार्क, तुम नहीं जानते कि तुम्हारा नाम मुकेश गर्ग है। तुम्हारा जनम मथुरा में एक हिन्दू परिवार में हुआ था। बच्चा चुराने वाले गिरोह ने तुम्हे बचपन में चुरा लिया, और अमेरिका में बेच […]