100 रु. जुर्माना लगने के बाद बोले शाकिब अल हसन मैं तो बर्बाद हो जाऊँगा

जब बांग्लादेश के हारने की परिस्थिति आयी, तो बांग्लादेश के कप्तान शाकिब अल हसन ने अपनी नौटंकी चालू कर दी।

16 मार्च को चल रहे बांग्लादेश और श्रीलंका के बीच टी 20 मैच में बांग्लादेश ने श्रीलंका को हरा दिया। अब बांग्लादेश भारत से 18 मार्च को फाइनल में खेलेगा।

लेकिन ऐसा बहुत कुछ घट गया, जो एक क्रिकेट के खेल में नहीं होना चाहिए था।

दरसअल एक समय ऐसा आया जब लग रहा था बांग्लादेश मैच हार जायेगा, और भारत के साथ फाइनल खेलने का सौभाग्य श्रीलंका को प्राप्त होगा।

Shakib Al Hasan
शाकिब अल हसन अपनी प्रतिक्रिया देते हुए

लेकिन जब बांग्लादेश के हारने की परिस्थिति आयी, तो बांग्लादेश के कप्तान शाकिब अल हसन ने अपनी नौटंकी चालू कर दी। उसने बांग्लादेश को मैच हारता देख बाकी खिलाड़ियों को ड्रेसिंग रूम से मैदान में आने का इशारा किया। इसके बाद वो अंपायर से भी उलझ गए।

अन्तः किसी तरह मैच बांग्लादेश ने जीत लिया। इसके बाद भी उन लोगों का अभद्र व्यवहार चालू था, और उन्होंने श्रीलंकाई खिलाड़ियों को चिढ़ाने के लिए नागिन डांस शुरू कर दिया।

इसके बाद आईसीसी ने बांग्लादेश क्रिकेट टीम के कप्तान शाकिब अल हसन को कड़ी सजा सुनाई, जिसके तहत उन्हें 100 रु. “आईसीसी पार्टी करो मौज करो” फन्ड में जमा करवाने होंगे।

सज़ा का एलान होते ही शाकिब अल हसन फुट-फुट कर रोने लगे, और उन्होंने कहा कि ये बहुत ज्यादा जुर्माना है। इसके लिए उन्हें अपने बाप का घर भी बेचना पड़ेगा।

हमारे सवांददाता द्वारा लोन लेने का आईडिया देने पर वो भड़क गए, और कहा पूरे बांग्लादेश में किसी ने इतने रु. देखे तक नहीं हैं, और ये भारत तो है नहीं कि 100 रु. आसानी से बैंक से लोन मिला जाएँ, और वो नीरव मोदी बन जायें।

इसके बाद शाकिब अल हसन फुट-फुट कर रोने लगे और फिर हमारे सवांददाता ने भी उनके साथ भावना में बहने की जगह वहाँ से खिसकने का फैसला लिया, और वहाँ से निकल लिए।

Discussion

comments

डिस्क्लेमर: यह एक हास्य-व्यंग्य लेख है और इसके सभी पात्र, घटनाएं अादि काल्पनिक हैं। कृपया इस खबर को सच समझकर व्यर्थ मे अपनी भावनाएं अाहत न करें। अाप भी तीखी मिर्ची ज्वाईन करके अपनी रचनाएं पोस्ट कर सकते हैं
Shubham
About Shubham 223 Articles
कुछ नहीं से कुछ भी बनाने की कला।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*