राहुल गाँधी ने किया गुजरात भाजपा के चुनाव प्रचार का श्री गणेश, भाजपा की जीत तय

गौरतलब है कि इससे पहले मोदी जी और अमित शाह जी भी गुजरात में प्रचार करना शुरू कर चुके थे, पर उसे श्री गणेश का दर्जा नहीं दिया गया|

गुजरात: राहुल गांधी ने गुजरात में चुनाव का श्री गणेश कर दिया है, और कहा है कि हम ‘भाजपा को हारने आये हैं’| भाजपा वालों ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि शुक्र है वो आये हैं, वरना हमे तो लगा था कि उत्तर प्रदेश के बाद वो नहीं आएँगे, और हमारी 2019 की सारी योजनाएं विफल हो जाएंगी|

मोदी जी ने अपने नेताओं को साफ़ साफ़ कह दिया है कि उनका मज़ाक नहीं उडाएं| उनकी हर बात का जवाब सभ्यता से दिया जाए| किसी भी हाल में 2019 के चुनाव से पहले कांग्रेस उनको न हटा पाए, ये सुनिश्चित करना अब भाजपा का काम है| इसी के साथ उन्होंने अपने कांग्रेस मुक्त भारत के सपने को दोबारा दोहराया|

Rahul Gandhi Gujarat Campaign
(तस्वीर में: राहुल गांधी गुजरात में भाजपा का चुनावी प्रचार शुरू होने का बिगुल और कांग्रेस की पुंगी बजाते हुए. इमेज सोर्स: TimesofIndia)

उत्तर प्रदेश में हुए चुनावों के बाद भाजपा के खेमो में भारी सनसनी सी मच गयी थी| सबको लगा था कि अब 2019 के चुनाव खतरे में पड़ चुके हैं|

कांग्रेस किसी भी वक़्त राहुल से पल्ला झाड़ लेगी| इतने बड़े स्टार कैम्पेनर को खोने का डर भाजपा के नेताओं में साफ़ दिखने लगा था| अमित शाह जहाँ भी जाते थे सबको 2019 की तैयारी के लिए कहते थे|

बिना राहुल गाँधी के ये काम खुद राजनीती के चाणक्य को कठिन लगने लगी थी| पर जैसे ही राहुल गाँधी गुजरात में चुनावी बिगुल बजाने पहुंचे, भाजपा के नेताओं की खोयी मुस्कान लौट आयी है| अमित शाह ने अपने कार्यकर्ताओं को 2019 की तैयारिओं में ढिलाई बरतने को कहा है|

चूँकि अब राहुल मैदान में हैं, तो कांग्रेस मुक्त भारत का जो सपना है- वो तो पूरा हो ही जायेगा| साथ ही गुजरात इलेक्शन में जीत भी लगभग तय मानी जा रही है|

भाजपा ने अपने कार्यकर्ताओं को राहुल गांधी की रैलियो में संख्यां बढ़ाने के लिए कहा है| साथ ही उनका मनोबल बढ़ाने के लिए राहुल-राहुल के नारे लगते रहने के लिए भी कहा गया है|

जैसे कि हम जानते हैं, अपने नेताओं को भाजपा ने पहले भी राहुल गांधी के लिए करवा-चौथ का व्रत रखवाया था| भाजपा वाले कांग्रेस की तरह नहीं, जो राहुल गांधी की कदर न समझे| प्रशांत किशोर के सारे प्रयास भी असफल साबित हो रहे हैं|

सुनने में आया है कि कांग्रेस यहाँ भी उत्तर प्रदेश की तरह शीला दीक्षित का नाम CM उम्मीदवार के तौर पर लोगों के सामने रख सकती है| इससे आखिर किसी और का राजनीतिक करियर ख़राब होने से बचाया जा सकता है|

गौरतलब है कि इससे पहले मोदी जी और अमित शाह जी भी गुजरात में प्रचार करना शुरू कर चुके थे, पर उसे श्री गणेश का दर्जा नहीं दिया गया| पर अब राहुल गांधी जी के चरणकमल गुजरात में पड़ते ही भाजपा के लिए चुनावों का श्री गणेश हो चूका है|

Discussion

comments

डिस्क्लेमर: यह एक हास्य-व्यंग्य लेख है और इसके सभी पात्र, घटनाएं अादि काल्पनिक हैं। कृपया इस खबर को सच समझकर व्यर्थ मे अपनी भावनाएं अाहत न करें। अाप भी तीखी मिर्ची ज्वाईन करके अपनी रचनाएं पोस्ट कर सकते हैं
velawrites
About velawrites 73 Articles
वेला तेरी तरह। अब तू माने या ना माने दोस्त मेरे , मैंने तो तुझे वेला माना। http://velawrites.in/

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*