​जल्द मोदी देंगे पाकिस्तान को उसी के भाषा में जवाब, उर्दू सीखने जा रहे हैं मदरसा

विपक्ष लगातार मोदी पर निशाना साध रहा है कि बाथरूम जाने पर भी उसे ट्वीट करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अब इस मामले पर चुप्पी क्यों साधे हुए हैं।

नयी दिल्ली: पाकिस्तान की ओर से लगातार हो रहे हमले और भारतीय जवानों पर उनके द्वारा कि गयी  बर्बरता अब सबके के लिए असहनीय होती जा रही है। विपक्ष लगातार मोदी सरकार पर निशाना साध रहा है कि, बाथरूम जाने पर भी उसे ट्वीट के माध्यम से सबको बताने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अब इस मामले पर चुप्पी क्यों साधे हुए हैं।

Narendra Modi Skullcap
मदरसे में दाखिला के वक्त जनाब मोदी पोज देते हुए.

हालाँकि मोदी इस पर कुछ नही बोल रहे हैं, तो मीडिया और लोगों का ध्यान लगातार योगी आदित्यनाथ के कामों पर जा रहा है। लोग योगी आदित्यनाथ के द्वारा लिए गए हर कदम पर चर्चा कर के सैनिकों के बलिदान को भुलाने की कोशिश कर रहे हैं। हालाँकि लोगों के बीच ये भी संदेश फैल रहा है कि- “कट्टप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा”- इसका जवाब जानने में तो सब की रुचि है, लेकिन हमारे जवान शहीद क्यों हो रहे हैं, इसका जवाब जानने की मशक्कत कोई नहीं करना चाह रहा है।

नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के बाद लोगों को लग रहा था कि उन लोगों ने एक सशक्त नेता चुन लिया है, जो हर एक बड़ी समस्या पर तुरंत एक्शन लेकर उसको सुलझाने की काबिलियत रखता है। लेकिन जवानों की शहादतों के बाद मोदी जी का इस विषय पर कुछ ना कहना लोगों को अखर गया, और वो लोग जो उनसे बड़ी उम्मीदें लगाए बैठे थे, उन सबकी आशा को एक धक्का लगा- या यूं कहें निराशा हाथ लगी।

लेकिन सूत्रों की माने तो उन लोगों को निराश होने की बिल्कुल की भी जरूरत नही है, जो चाहते थे कि मोदी जी पाकिस्तान को कठोर सबक सिखाएं।

मोदी जी ने एक खुफिया तरीके से पाकिस्तान को सबक सिखाने की ठान ली है। दरसअल नरेंद्र मोदी पाकिस्तान को उसी की भाषा में जवाब देना चाहते हैं, इसलिए वो उर्दू सिख रहे हैं। सूत्रों के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जल्द उर्दू सीख कर पाकिस्तान को उसी के भाषा- यानी कि उर्दू में ट्वीट कर के करार जवाब देंगे।

ये तो आने वाला भविष्य ही बतायेगा कि मोदी का पाकिस्तान को उसी के भाषा में ट्वीट कितना प्रभावशाली रहेगा, लेकिन उनका ये कदम अभी के लिए सराहनीय है, इसी बहाने वो कम से कम एक नई भाषा तो सीख लेंगे।

Discussion

comments

डिस्क्लेमर: यह एक हास्य-व्यंग्य लेख है और इसके सभी पात्र, घटनाएं अादि काल्पनिक हैं। कृपया इस खबर को सच समझकर व्यर्थ मे अपनी भावनाएं अाहत न करें। अाप भी तीखी मिर्ची ज्वाईन करके अपनी रचनाएं पोस्ट कर सकते हैं
Shubham
About Shubham 211 Articles
कुछ नहीं से कुछ भी बनाने की कला।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*