​लालू का केजरीवाल पर तंज- “गंगा साफ करने निकले थे, खुद लोटा ले कर बैठ गए”

"अब साबित हो गया है कि केजरीवाल गंगा साफ करने निकले थे, और वहाँ का माहौल देखकर वहीँ लोटा लेकर खुद भी बैठ गए।" - लालू प्रसाद यादव।

दिल्ली: आप पार्टी में घमासान मचा हुआ है। आप पार्टी टूट के कगार पर पहुँच चुकी है, लेकिन केजरीवाल अभी तक इस पर खामोश बैठे हैं। उनकी जगह मनीष सिसोदिया उनके ईमानदारी की बखान कर रहे हैं।

Arvind kejriwal counting notes
अरविन्द केजरीवाल की नोट गिनती हुई ये फ़ोटो कपिल मिश्र ने सबूत के तौर पर पेश की।

दरसअल पूरा मामला तब शुरू हुआ जब केजरीवाल की पार्टी “आम आदमी पार्टी” के ही एक मंत्री ने केजरीवाल पर दो करोड़ घूस लेने का आरोप लगाया, और केजरीवाल की ईमानदारी पर बट्टा  लगा दिया। जिसके बाद मामले ने और तूल पकड़ना तब शुरु कर दिया जब केजरीवाल ने आरोप लगाने वाले मंत्री कपिल मिश्रा को बर्खास्त कर दिया और पार्टी से भी निलंबित कर दिया।

इस पूरे प्रकरण के बाद रायता फ़ैल गया और केजरीवाल पर भ्रष्टाचार के आरोप लगने लगे। विपक्ष ने लगातार उन पर निशाना साधा हुआ है, और केजरीवाल से इस्तीफे की मांग कर रहा है, क्योंकि अब तक कुछ भी आरोप लगने पर केजरीवाल दूसरों से सीधे इस्तीफे की मांग शुरू कर देते थे। “अब जो फसल बोया है उसे ही तो काटना पड़ेगा ना”- वाला कहावत चरितार्थ हो रहा है। विपक्ष लगातार उनसे इस्तीफे की मांग कर रहा है।

केजरीवाल को वैसे तो अन्ना हजारे तक इस मामले में सलाह दे चुके है। लेकिन जो सबसे ताज़ा और रचनात्मक बयान आया है, वो आया है राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की तरफ से।

लालू यादव ने केजरीवाल को निशाने पर लेते हुए उन पर तंज कसते हुए कहा कि “केजरीवाल कोई दूध के धुले तो हैं नहीं, वो भी बाकियों के जैसे ही हैं, लेकिन इस घूसकांड के बाद साबित हो गया है कि केजरीवाल गंगा साफ करने निकले थे और वहाँ का माहौल देखकर वहीँ लोटा लेकर खुद भी बैठ गए”।

हालाँकि इन सभी के बयानों के बाद, और आरोप लगने के बाद भी केजरीवाल शांत हैं, और इस मामले पर कोई भी सफाई नहीं दे रहे हैं।

ये तो आने वाला वक़्त ही बताएगा कि कौन कितना साफ है, लेकिन इतना तो साफ है कि “राजनीति को कीचड़ मानने वाले भी इसी कीचड़ से होली खेलने लगे हैं”।

Discussion

comments

डिस्क्लेमर: यह एक हास्य-व्यंग्य लेख है और इसके सभी पात्र, घटनाएं अादि काल्पनिक हैं। कृपया इस खबर को सच समझकर व्यर्थ मे अपनी भावनाएं अाहत न करें। अाप भी तीखी मिर्ची ज्वाईन करके अपनी रचनाएं पोस्ट कर सकते हैं
Shubham
About Shubham 212 Articles
कुछ नहीं से कुछ भी बनाने की कला।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*