​हार्दिक पांड्या ने खोला राज़- आँखें बंद करके खेलते हैं इतने वैरायटी के शॉट

हार्दिक पंड्या की इस तकनीक को मशहूर क्रिकेट विशेषज्ञ बोरिया मजूमदार ने 'शब्दबेधी शॉट्स' का नाम दिया है, जिसमे वो बस गेंद की आवाज सुनकर ही मार देते हैं.

आईपीएल का रोमांच चरम पर है। आईपीएल के 10वें संस्करण का ये दौर चल रहा है, बहुत से पुराने चेहरे देखने को नहीं मिलते हैं, लेकिन उनकी जगह नये चेहरों ने ले लिया है। बात करें आईपीएल 10 की, तो हार्दिक पांड्या , कुणाल पंड्या, केदार जाधव वगैरह इस बार कमाल किये हुए हैं।

हार्दिक पांड्या की जितनी भी तारीफ की जाए वो कम है। हार्दिक पांड्या की पारी देख कर हर कोई वाह-वाह कर उठता है। सभी अचरज़ से उन्हें देखते हैं कि ऐसा शॉट भी कोई खेल सकता है क्या! उनके शॉट अद्भुत लगते हैं।

Hardik Pandya Shirtless
हार्दिक पंड्या हमें कूल पोज़ देते हुए. (फोटो साभार: आस्क मेन)

लेकिन हार्दिक पांड्या ने एक सनसनीखेज खुलासा कर के सब को चौंका दिया है। हार्दिक पांड्या ने हमसे एक्सक्लूसिव बातचीत करते हुए बताया कि वो इतने वैरायटी के शॉट आंखें बंद कर के खेलते हैं। हार्दिक पांड्या से आगे की बातचीत के क्रम में उन्होंने और बताया कि वो एक बॉलर के रूप में अच्छे साबित हो सकते हैं, लेकिन ऑलराउंडर बनने के चक्कर में वो बैटिंग भी करना शुरू कर दिये। लेकिन वो उतनी अच्छी बैटिंग नही कर पा रहे थे, जिसके बाद उन्होंने एक नई तकनीक ईज़ाद की, जिससे वो बिना बॉल को देखे आरा-तिरछा इधर-उधर किसी भी दिशा में बॉल को उड़ाने लगे और उनकी ये तकनीक कामयाब हुई।

उन्होंने आगे बताया कि बॉल को वो तभी तक देखते हैं, जब तक बॉल बॉलर के हाथ में होती है। बॉल जैसे ही बॉलर के हाथ से छूटती है वो आंखें बंद कर के बॉल को मारने के लिए तैयार हो जाते हैं। बॉल के पास पहुँचने पर जो आवाज़ होती है, वो उसको पहचान कर ही शॉट मारते हैं।

इसके आगे हार्दिक ने बताया कि कभी-कभी स्टेडियम में लोगों की इतनी भीड़ और आवाज़ को सुन कर उन्हें बॉल की आवाज़ सुनाई नही देती है, और वो शॉट मारने में असफल हो जाते हैं।

खैर जो भी हो, कहते हैं ना- “ऊपर वाला मेहरबान तो गधा भी पहलवान”, तो जब तक चल रही है ऐसी तकनीक, तब तक तो हार्दिक पांड्या की बल्ले-बल्ले है।

हम हार्दिक पांड्या को उनके सुनहरे भविष्य के लिए शुभकामनाएं देते हैं, और आशा करते है कि वो ऐसे ही वैरायटी-वैरायटी के शॉट आंखें बंद कर खेलते रहें।

Discussion

comments

डिस्क्लेमर: यह एक हास्य-व्यंग्य लेख है और इसके सभी पात्र, घटनाएं अादि काल्पनिक हैं। कृपया इस खबर को सच समझकर व्यर्थ मे अपनी भावनाएं अाहत न करें। अाप भी तीखी मिर्ची ज्वाईन करके अपनी रचनाएं पोस्ट कर सकते हैं
Shubham
About Shubham 211 Articles
कुछ नहीं से कुछ भी बनाने की कला।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*