​वाराणसी बनेगी भारत की राजधानी? मोदी दे सकते हैं गंगा मैया का हवाला

नरेंद्र मोदी ये तर्क दे सकते हैं कि गँगा मैया ने उन्हें ऐसा करने की हिदायत दी, या फिर ये बोल सकते है कि गंगा मैया के प्यार के कारण उन्हें ये कदम उठाना पड़ा।

वाराणसी: यूपी में चुनाव आखिरी दौर में पहुँच गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी में तीन दिनों से डेरा जमाये हुए हैं। प्रधानमंत्री के साथ पूरी कैबिनेट भी वाराणसी में घूम-घूम कर प्रचार प्रसार कर रही है। नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र भी वाराणसी ही है। मोदी फिर से ये कहते नज़र आये कि उनको गँगा मैया ने फिर से बुलाया है। हालाँकि लोग सवाल भी खड़े कर रहे है कि चुनाव के समय ही प्रधानमंत्री को गंगा मैया क्यों याद करती हैं?

अब जो खबर निकल के आ रही है वो ये है कि मोदी जल्द ही वाराणसी को भारत की राजधानी घोषित करने वाले हैं। जी हां, अगर सूत्रों की मानें तो जल्द ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्ली से शिफ्ट करके वाराणसी को भारत की राजधानी बना देंगे।

Modi Varanasi Ganga
प्रधानमन्त्री मोदी जहाज से गंगा मैय्या में डुबकी लगाते साधुओं का विहंगम दृश्य देखते हुए.

नरेंद्र मोदी इसके पीछे तर्क ये दे सकते हैं कि गँगा मैया ने उन्हें ऐसा करने की हिदायत दी है, या फिर ये बोल सकते है कि गंगा मैया के प्यार के कारण उन्हें ये कदम उठाना पड़ा।

सूत्र बता रहे हैं कि इसके पीछे ये वजह हो सकती है कि मोदी इतने दिनों से वाराणसी में हैं, तो लोग उन पर सवाल उठाना ना शुरू कर दें। इसलिए वो “ना रहेगा बाँस ना बजेगा बांसुरी”- वाला कहावत चरितार्थ करते हुए ऐसा कर सकते हैं। जब राजधानी ही वाराणसी ही हो जायेगी, तो किसी के पास सवाल उठाने का कोई मौका ही नहीं मिलेगा।

इस ख़बर के आने के बाद अरविंद केजरीवाल बहुत खुश नज़र आ रहे हैं। अरविंद केजरीवाल का मुद्दा “दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा” भी खत्म हो जायेगा। हालांकि केजरीवाल ने इस बात पर कोई टिप्पणी देने से इंकार कर दिया है।

अब देखना दिलचस्प होगा कि कब तक ये घोषणा होती है, और इसके बाद और दूसरी पार्टियों और लोगों की प्रतिक्रिया क्या होगी!

Discussion

comments

डिस्क्लेमर: यह एक हास्य-व्यंग्य लेख है और इसके सभी पात्र, घटनाएं अादि काल्पनिक हैं। कृपया इस खबर को सच समझकर व्यर्थ मे अपनी भावनाएं अाहत न करें। अाप भी तीखी मिर्ची ज्वाईन करके अपनी रचनाएं पोस्ट कर सकते हैं
Shubham
About Shubham 223 Articles
कुछ नहीं से कुछ भी बनाने की कला।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*