मुलायम को मनाने का ये अचूक फार्मूला निकाला है अखिलेश यादव ने

कयास लगाए जा रहे हैं कि जब मुलायम ने 'ललको से गलती' वाला बयान दिया था, तब उन्होंने अपनी दिव्य नज़रो से आज का समय देख लिया था। इसी पर मोहर लगते हुए उन्हें नॉस्त्रेदमस उपाधि मिलने वाली है।

समाजवादी पार्टी का दंगल अब उफान पर पहुँच चूका है। अखिलेश यादव ने खुद को ही पार्टी का अध्यक्ष घोषित कर दिया है। नए साल में कई लोग इस बार अवार्ड शो छोड़ कर न्यूज़ चैनल देखते पाए गए। लोगो को सच और गलत की परिभाषा बताने में बहुत दिक्कत हो रही है।

अखिलेश या मुलायम कौन सही कौन गलत, लोग सोच रहे हैं, बाकी पार्टी में सब इसी दुविधा में हैं कि किसका कटा बड़ा वाला। जवाब मिलते ही आपको हम बता देंगे। तब तक आप भी मज़े लीजिये।

Akhilesh Yadav Mulayam Singh Yadav fight
अखिलेश यादव अपने पिता मुलायम को नया फार्मूला समझाते हुए.

अखिलेश यादब द्वारा बुलाये गए पार्टी अधिवेशन में उन्होंने मुलायम को सपा का अडवाणी बना दिया है। काम के फैसले लेने का जिम्मा खुद को देकर मुलायम को बाबाजी का ठुल्लू थमा दिया है। मुलायम ने भी अपनी नाराज़गी जगजाहिर कर दी।

सूत्रों के हवाले से खबरें मिल रही है कि ‘नेताजी’ को बेहतर महसूस कराने के लिए उन्हें पार्टी का नास्त्रेदमस घोषित किया जायेगा। ऐसा इसीलिए है क्योंकि वो पहले शख्स थे जिन्होंने पिछले साल ही इस घटनाक्रम को देख लिया था, जब उन्होंने ये मशहूर जुमला छोड़ा था-

चाय पे दो की जगह तीन चम्मच चीनी डाली जाती है,
ललकों से गलती हो जाती है !

वैसे सपा से ज्यादा उम्मीद न लगाएं, लोगो को कोई दिक्कत महसूस नहीं हो रही। जिन्होंने लगायी, उन्हें भी कुछ खास मिलता नहीं दिख रहा है, टिकट तो घंटा मिलेगा

Discussion

comments

डिस्क्लेमर: यह एक हास्य-व्यंग्य लेख है और इसके सभी पात्र, घटनाएं अादि काल्पनिक हैं। कृपया इस खबर को सच समझकर व्यर्थ मे अपनी भावनाएं अाहत न करें। अाप भी तीखी मिर्ची ज्वाईन करके अपनी रचनाएं पोस्ट कर सकते हैं
velawrites
About velawrites 71 Articles
वेला तेरी तरह। अब तू माने या ना माने दोस्त मेरे , मैंने तो तुझे वेला माना। http://velawrites.in/

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*