विदेशों से बड्डे विश नहीं मिला तो आहत मोदी ने लिख डाला ये दर्द भरा खुला खत!

मोदीजी के इंटरनेशनल दोस्तों ने उन्हें बर्थडे विश न करके उनके बड्डे सेलिब्रेशन को फीका कर दिया, जिससे आहत होकर मोदीजी ने ये खुला ख़त लिख डाला।

मित्रों ,

ये तो आप सब जानते हैं कि मैं सबसे पॉपुलर अंतर्राष्ट्रीय नेता हूँ। आप ये भी जानते होंगे कि अभी हाल में ही मेरा बड्डे बीता है। अपनी तरफ से मैंने तो पूरा “पीआर प्रबंध” किया था। पर मेरे इंटरनेशनल दोस्तों ने मुझे विश न करके मेरे बड्डे सेलिब्रेशन को फीका कर दिया। मित्रों, मैंने वर्ल्ड मैप से खोज-खोजकर मंगोलिया जैसे देश के प्रधानमंत्री के माली के मुर्गे को भी अंडे देने पर विश किया था। किन्तु मुझे अंतर्राष्ट्रीय बिरादरी से कुछ खास रिटर्न विश नहीं मिली। इससे मुझे बड़ी पीड़ा हुई। इसलिए मैं अपने कुछ विश्वविख्यात दोस्त हस्तियों के नाम अपनी मन की पीड़ा को इस खुले पत्र में बयान करना चाहता हूँ। अमरीका वाले बराक से शुरू करता हूँ….

Narendra Modi writing open letter
नरेन्द्र मोदी अपने मित्र बराक की फोटो सामने रखकर उनको खुला पत्र लिखते हुए.

प्रिय मित्र बराक, अभी दो दिन पहले ही वो शुभ दिन था जब तेरा ये यार अपने समस्त अवयवों के साथ इस धरती पर आया था। पर मुझे बड़ा दुःख हुआ कि न तो हॉटलाइन पर तेरा कोई कॉल आया, न ही तेरा विश मेरे ट्विटर मेंशन में नज़र कहीं आया। माना कि तू बड़ा नेता है और अभी हिलेरी के चुनाव प्रचार में बिज़ी होगा। पर तू यार का बड्डे भूल जायेगा ? दिस इज़ जस्ट नॉट डन या। मैं भी तो बड़ा नेता हूँ, तेरे से भी बड़ा…उम्र में और तेरे से ज्यादा बिज़ी भी रहता हूँ चुनाव प्रचार में। फिर भी वक्त निकाल कर साल भर में दो-तीन बार तुमसे मिलने आ जाता हूँ। प्रोटोकॉल तोड़कर तुझे रिसीव करने एयरपोर्ट चला जाता हूँ। तेरे नहीं चाहने के बावजूद तेरे गले पड़ता रहता हूँ। तुझे दिखाने के चक्कर में अपने नाम का पिनस्ट्रिप किया दस लाख का सूट पहना, और बदनामी भी झेली, पर तू ठहरा पत्थर दिल ! एक विश तक नहीं किया तूने। खैर तेरा तो व्हाइट हाउस से चालान कट रहा है। अब तुम मुझे “ट्रम्प कार्ड” खेलते हुए देखना बस।

डियर नवाज़, तू तो साले किसी एंगल से शरीफ़ नहीं है। मैंने तुझे बिरयानी खिला-खिलाकर अपनी मुर्गियों से दुश्मनी मोल ले ली। तेरे बड्डे में बिना बुलाये जाकर तुझे सरप्राइज दिया, केक काटकर तुझे खिलाया। डीजे वाले बाबू से कहकर मेरा गाना बजवाया, और उस पे डांस भी किया। तेरी माँ का…सॉरी…तेरी माँ के लिए शॉल लाया, उनके पैरों में पड़कर प्रणाम किया। और बदले में तूने क्या किया कठोर ? विश नहीं भेजी, आतंकियों को रिटर्न गिफ्ट के रूप में भेज दिया ? आक थू। अब सरकार में हूँ तो अभी तो बस कड़ी निंदा ही करूँगा। पर देखना विपक्ष में जाते ही कैसे तेरी ईंट से ईंट बजाता हूँ।

अबे ! शिंज़ो, तुझे तो फ़ास्ट फ्रेंड बनाया था न ! यहाँ बुलाकर इतनी आवभगत की। जापान जाकर तेरे साथ ड्रम वगैरह बजाया। बनारसी पान का हवाला देकर जापान से अपना पुराना नाता बताया।  काशी को क्योटो बनाने का जुमला तेरे भरोसे ही उछाला, और तू अपने दोस्त का बड्डे भूल गया ? ये क्या बात हुई ? अबे, मेरे भक्तों ने ट्विटर पर विश करने के लिए तुझसे चिरौरी भी की। मेरे लिए बनाये गए इतने बड़े केक को देखकर भी तेरी छोटी-छोटी आँखें नहीं खुलीं ?

और शी, छी है तुझ पर। चीनी भाषा मंदारिन में तेरे लिए ट्वीट किया मैंने। चीनी सोशल मीडिया वेइबो ज्वाइन किया तेरी खातिर। तू जब इंडिया आया था तो तेरे स्वागत में साबरमती के तट पर झूला डलवाया और इतने प्रेम से तुझे झूला झुलवाया। और तू एक बड्डे विश सेंड करना अफ़्फोर्ड नहीं कर सकता ? लानत है यार। अब देखना मैं अपने ‘फेक इन इंडिया’ के द्वारा कैसे तेरे देश को विकास में पछाड़ता हूँ !

जकरबर्ग, तू किस जंजाल में जकड़ा हुआ था कि मुझे बड्डे विश नहीं किया ? तुझे याद है तेरे फेसबुक हेडक्वार्टर में स्ट्रेट फेस के साथ कितना फेंका था मैंने ! पर एक फोटो शूट के लिए फ्रेम में तेरा बैक मेरे फेस के सामने आने के कारण तुझे जरा साइड क्या किया तेरा ईगो हर्ट हो गया ? तेरे को बता दे रहा हूँ कि ज्यादा भाव नहीं खाने का, वरना पतंजलि का स्वदेसी सोशल मीडिया भी स्टार्ट करवा दूंगा।

खैर अब बहुत भड़ास निकाल ली मित्रों। अब जाकर मेरे छप्पन इंची कलेजे में ठंडक पड़ी ! पत्र समाप्त करता हूँ। दोस्ती बनी रहे।

Discussion

comments

डिस्क्लेमर: यह एक हास्य-व्यंग्य लेख है और इसके सभी पात्र, घटनाएं अादि काल्पनिक हैं। कृपया इस खबर को सच समझकर व्यर्थ मे अपनी भावनाएं अाहत न करें। अाप भी तीखी मिर्ची ज्वाईन करके अपनी रचनाएं पोस्ट कर सकते हैं
Kumar Keshav
About Kumar Keshav 56 Articles
आजादीपसंद, स्वच्छन्द, आरामतलबी, अमितभाषी

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.