मोदी द्वारा गोल्ड पर एक्साइज ड्यूटी लगाने से हम गोल्ड नहीं जीत पा रहे हैं- केजरीवाल

कहते हैं यादें आपका कभी पीछा नहीं छोडती। लेकिन यहाँ तो एक मुख्यमंत्री प्रधानमन्त्री के पीछे हाथ धोकर पीछे पड़ गया है, तभी तो हर छोटी-बड़ी चीज के लिए मोदी को जिम्मेदार बता देते हैं वो।

आपिस्तान: नरेंद्र मोदी पर आरोप लगाना कोई अरविंद केजरीवाल से सीखे।

Angry Arvind Kejriwal
फोटो: केजरीवाल मोदी पर ताज़ा आरोप लगाते हुए.

अरविंद केजरीवाल नरेंद्र मोदी पर इस कदर आरोप लगाते हैं कि कई लोग चुटकी लेते हुए अरविंद केजरीवाल को मोदी की बीवी तक बता देते हैं।

खैर, रियो ओलंपिक में ख़राब प्रदर्शन से जूझ रहे भारतीय खिलाड़ीयों ने सभी को निराश किया है। हालांकि साक्षी मलिक और पी.वी. सिंधु के कांस्य और रजत पदक क्रमश: लाने के बाद भारत की कुछ इज़्ज़त विश्व पटल पर बची। लेकिन उस बची खुशी इज्जत को विजय गोयल और अनिल विज जैसे नेताओं ने वहां अय्याशी का तमाशा बनाकर नेस्तनाबूत कर दिया।

अब केजरीवाल ने भी ओलिंपिक के मुद्दे को राजनैतिक मुद्दा बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है।

दरसअल मोदी सरकार ने पिछले वर्ष सोने पर एक्साइज ड्यूटी लगा दी थी, जिसके बाद से इम्पोर्ट किया गया सोना महंगा हो गया है। इसी बात को मुद्दा बनाते हुए केजरीवाल ने आज कहा कि मोदी सरकार ने गोल्ड पर एक्साइज ड्यूटी लगा दी है, इसलिए हम गोल्ड नहीं जीत पा रहे हैं जी।

केजरीवाल ने आगे कहा कि, “केंद्र में हमारी सरकार बनवाइए, फिर देखिये हमारे खिलाड़ी कैसे गोल्ड लाते हैं जी!”

अरविंद केजरीवाल के इस बयान पर हालांकि अभी तक विपक्षी पार्टीयों की कोई प्रतिक्रिया नहीं आयी है, लेकिन हाँ, राजधानी दिल्ली में मोदी के खिलाफ ऐसे कई पोस्टर लगे हुए मिले हैं, जिनके पीछे केजरीवाल का हाथ होने की आशंका जताई जा रही है।

Jewellers protest against Narendra Modi and Arun Jaitley for hike in excise duty
फोटो: अरविन्द केजरीवाल द्वारा दिल्ली में जगह-जगह ये पोस्टर लगवाए जा रहे हैं.

Discussion

comments

डिस्क्लेमर: यह एक हास्य-व्यंग्य लेख है और इसके सभी पात्र, घटनाएं अादि काल्पनिक हैं। कृपया इस खबर को सच समझकर व्यर्थ मे अपनी भावनाएं अाहत न करें। अाप भी तीखी मिर्ची ज्वाईन करके अपनी रचनाएं पोस्ट कर सकते हैं
Shubham
About Shubham 211 Articles
कुछ नहीं से कुछ भी बनाने की कला।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*