खुलासा: पैदा होते ही सीबीआई मुलायम जी के पीछे पड़ गयी थी

कम लोग जानते हैं कि जब बाल मुलायम बचपन में अंगूठा चूसते थे, तो उनकी माँ ने ये कहके उनकी आदत छुड़ाई थी, "बेटे, अंगूठा बाहर निकालो नहीं तो सीबीआई से कटवा दूँगी।"

जिस तरह से आधुनिक भारत के ‘नेताजी’ मुलायम सिंह यादव जी को सीबीआई का डर दिखाकर कोई भी यू-टर्न दिलवा लेता है, कभी-कभी मुझे लगता है कि नेताजी का जन्म ही सीबीआई से डरने के लिए हुआ है।

Mulayam Singh yadav frightened by a caged parrot called CBI
सीबीआई नाम का तोता बाल मुलायम को डराता हुआ.

कम लोग जानते हैं कि जब बाल मुलायम बचपन में अंगूठा चूसते थे, तो उनकी माँ ने ये कहके उनकी आदत छुड़ाई थी, “बेटे, अंगूठा बाहर निकालो नहीं तो सीबीआई से कटवा दूँगी।”

जब ‘नेताजी’ थोड़े बड़े हुए तो युवा मुलायम की गर्ल फ्रेंड उनको सीबीआई का डर दिखाकर बार-बार नेट पैक भरवा लेती थीं, और फेसबुक पर अनाप-शनाप DP लाइक करवा लेती थीं।

एक बार तो युवा मुलायम से नहीं रहा गया तो वे गुस्से में फुट पड़े- “आदमी हूँ कि मंदिर का घंटा? जिसको देखो सीबीआई की धमकी देकर बजा जाता है!”

इस तरह से बार-बार यू-टर्न लेने की आदत ‘नेताजी’ को यूं लगी कि वो अब बिना वजह यू-टर्न लेने लगे। उनकी शादी में जब फेरे लग रहे थे, तब सीबीआई बाहर खड़ी थी, ये चेक करने के लिए कि कहीं यू-टर्न लेने के आदी मुलायम ‘शुद्ध देशी रोमांस’ स्टाइल में संडास जाने के बहाने मंडप से भाग ना लें।

हद्द तो तब हो गयी जब बाल अखिलेश ने सीबीआई का डर दिखाकर ‘नेताजी’ से मुख्यमंत्री की कुर्सी छीन ली, और खुद सीएम बन बैठे।

आज भी जब संसद में कोई अध्यादेश अटकता है तो सारे सांसदों कि धड़कने थम जाती हैं, क्यूंकि कोई नहीं जानता मुलायमजी का आज का स्टैंड क्या होगा। केवल सीबीआई को पता होता है।

लेकिन सीबीआई को खुद पता नहीं होता कि उसका आज का स्टैंड क्या होगा। पता तो केवल उसे होता है जिसके हाथ में ये पिंजड़े का कैद तोता लटकता रहता है।

Discussion

comments

डिस्क्लेमर: यह एक हास्य-व्यंग्य लेख है और इसके सभी पात्र, घटनाएं अादि काल्पनिक हैं। कृपया इस खबर को सच समझकर व्यर्थ मे अपनी भावनाएं अाहत न करें। अाप भी तीखी मिर्ची ज्वाईन करके अपनी रचनाएं पोस्ट कर सकते हैं
Jabra
About Jabra 288 Articles
मेरी गाड़ी बेवकूफों और चाटुकारों से प्रेरणा लेकर चलती है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*